दिवाली क्यों मनाई जाती है – जानिए दिवाली के बारे में महत्वपूर्ण बाते

दिवाली क्यों मनाई जाती है: भारत में दिवाली का त्यौहार बहुत पर्व माना जाता है और इसे बहुत धूम-धाम से मनाया जाता है. सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि भारत के बाहर भी दिवाली को बहुत धूम धाम से मनाया जाता है.

दिवाली जब भी आती है अपने साथ ढेर सारी खुशिया लाती है और लोगों के टूटे हुए दिलो को जोड़ जाती है. भारत में हर धर्म के लोग दिवाली को बड़ी धूम-धाम से मनाते है. ऐसे में बहुत सरे लोग है जो यह जानना चाहते है की इस खुशियों के त्यौहार को क्यों मनाया जाता है.

तो हमने सोचा की हम आपको दिवाली के बारे में सारी महत्वपूर्ण बाते बताए जो हर भारतीय नागरिक के लिए जानना बहुत जरुरी है. आज हम आपको बताने वाले है की दिवाली क्यों मनाई जाती है और भारत में लोग इसे इतना बड़ा त्यौहार क्यों मानते है.

दीपावली का त्यौहार हर भारतीय के जीवन में ढेर सारी खुशिया लेकर आता है. तो हमारा इस त्यौहार के बारे में जानना भी बहुत जरुरी है. आज आप यह पोस्ट पढ़कर दिवाली के बारे में सब कुछ जान जाएँगे.

दिवाली क्यों मनाई जाती है?

दिवाली 2021 एक ऐसा त्यौहार है जिसे भारत में हर धर्म के लोग आपस में एक दुसरे के साथ celebrate करते है. दिवाली को दीपो का त्यौहार भी कहा जाता है. इस दीपो के त्यौहार “दिवाली” को मनाने के पीछे कई कथाएं है.

दीपो के इस त्यौहार को कार्तिक मास की अमावस्या को मनाया जाता है. जब भगवान राम 14 वर्षो के वनवास के बाद अयोध्या लोटे थे वो उनके आने की खुशी में उनकी प्रजा ने और अयोध्या के लोगो मकानों की साफ सफाई की और अपने आंगन में दीप जलाकर उनका शानदार स्वागत किया था.

भगवान राम के अयोध्या लोटने पर अयोध्या निवासियों ने दिवाली मनाई थी. और तब से लेकर आज तक इस त्यौहार को बहुत धूमधाम से मनाया जाता है. भारत में दिवाली पर लोग अपने घरो में दिप जलाकर भगवान राम के घर लोटने की ख़ुशी मानते है.

दिवाली मनाने की पीछे एक कथा पांडवो का वनवास होना भी है. महाभारत के अनुसार इस दिन पांडवो का 12 साल का वनवास पूरा हुआ था और लोगों ने उनके वनवास पूरा होने की ख़ुशी में दिए जलाकर अपने आंगन को रोशन किया था और दिवाली बनाई थी.

दीपावली को मनाने की और भी कई कथाएं है. कुल मिलाकर हम कह सकते है की दीपवाली का त्यौहार खुशियों का प्रतिक माना जाता है. क्यूंकि आपने ऊपर बताई गयी दोनों कथाओं में जाना की लोग ख़ुशी के लिए दिवाली मानते है.

दिवाली कब है 2021 में – Diwali Kab Hai

लोगों को दीपावली का बहुत इन्तेजार रहता है और वो Google पर search करते है की diwali kab hai. हम आपको बता देते है की दिवाली 4 November 2021 को है.

दिवाली पर पटाखे क्यों जलाये है?

दिवाली 2021 पर पठाखे खुशी प्रकट करने के लिए जलाये जाते है.

दिपो के साथ-साथ पथाखो को भी खुशी प्रकट करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है. क्यूंकि दीप जहाँ घरों को रोशन करते है वही पठाखे भी घरों की रौशनी में चार चाँद लगा देते है और उत्साह को और बढ़ा देते है.

जैसा की अपने देखा होगा शादीयों में लोग खुशी प्रकट करने के लिए और उत्साह को बढ़ाने के लिए पठाखे जलाते है. क्यूंकि पठाखे खुशी को दो गुना कर देते है. इसीलिए अलग-अलग कथाओ के अनुसार दिवाली मनाने वाले लोग अपनी खुशी प्रकट करने के लिए पठाखे जलाते है.

दिवाली पर लोग क्या करते है?

दिवाली 2021 पर लोग अपने घरो को renovate कराते है और अपने सभी पुराने सामान को बेच कर नया सामान खरीदते है. अपने घरो को Paint करते है और आपस में सभी दूरियों को भुलाकर एक दुसरे के करीब आते है.

दीपावली जब भी आती है लोगों के दिलो को रोशन करती है. फिर चाहे वो गरीब हो या अमीर. अमीर लोग अपने हिसाब और हेसियत से दीपावली बनाते है और गरीब लोग अपनी हेसियत से. कहने का तात्पर्य यह है की दीपावली अमीर और गरीब में फर्क नहीं करती.

दिवाली के दिन लोग अपने घर पर ही पूजा पाठ करते है और शाम को बाहर घुमने निकल जाते है. दिवाली पर भारत में हर शहर से लेकर गली को रोशन कर दिया जाता है. गली-गली चमकने लगती है और तरह तरह की क्लाक्रतियों को सजोया जाता है.

महिलाएं दिवाली पर जहाँ घर को सजाती है वही पुरुष पूजा की तैयारियों में लग जाते है और बच्चे की तो खुशी का कोई ठीकाना ही नहीं रहता.

दिवाली 2021 का महत्व

  • दिवाली को दिलो को खुश करने वाला और जोड़ने वाला त्यौहार माना जाता है.
  • दीपो का यह त्यौहार “दिवाली” लोगों में सच्चाई की उमंग को जगाने आती है.
  • इस दिन घर चमकने लगते है और लोग एक दुसरे को उपहार और मिठाइयों का आदान-प्रदान करते है. जिससे की उनके बीच प्यार और बढ़ जाता है.
  • दीपवाली के दिन पूजा करना बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है. क्यूंकि ऐसा माना जाता है की जो इस दिन सच्चे मन से पूजा करता है उसके पास कभी लक्ष्मी की कमी नहीं आती.
  • पटाखे जलाकर लोगों के सारे गमो को भुलाकर उनमे खुशी की एक नई उमंग जगाई जाती है.
  • जैसे ही दिवाली आती है लोग अपने घरो और दुकानों का renovation कराना शुरू कर देते है.
  • अक्सर कई परिवारों में परिवार के सभी सदस्य एक जगह नहीं रह पाते है. पर जब दिवाली आती है तो परिवार के लोग एक जगह जमा हो जाते है और इसे आपस में मिलकर celebrate करते है. यह त्यौहार अपनों को आपस में एक दुसरे से जोड़ने वाला त्यौहार माना जाता है.
  • दिवाली पर कई अच्छे brands अपने products और services पर अच्छे offers देते है. जिससे लोगों को बहुत फायेदा होता है.
  • दिवाली पर आप अपनी पसंद की जो चीज़ चाहे वो खरीद सकते है क्यूंकि दिवाली पर सभी कंपनियां अच्छे-अच्छे offers देती है.
  • दीपो के इस त्यौहार को अच्छाई का प्रतिक माना जाता है.

क्या दिवाली सिर्फ भारत में ही मनाई जाती है?

बहुत से लोगों का यह Question रहता है की क्या दिवाली सिर्फ भारत में ही मनाई जाती है. हम आपको बताना चाहेंगे की दिवाली भारत के अलावा दुसरे देशो में भी मनाई जाती है. दुनिया के अधिकांश देशों में दिवाली को Celebrate किया जाता है.

पर हम आपको यह भी बता देते है की दिवाली जिस तरह भारत में मनाई जाती है उस तरह दुनिया में कही भी नहीं मनाई जाती. भारत में दिवाली को बहुत ही धूमधाम से मनाया जाता है और World के कई देशो से लोग भारत में दिवाली को Celebrate करने आते है.

निष्कर्ष

हमें उम्मीद है की आप जान गए होंगे की दिवाली क्यों मनाई जाती है.

दिवाली भारत के सबसे बड़ा मन जाने वाले त्योहारों में से एक है. इससे बारे में हमें जानना बहुत जरुरी है इसलिए हमने दिवाली पर यह पोस्ट लिखकर आप तक इसके बारे में सही जानकारी पहुँचाने की कोशिश की है.

अगर आपको हमारे इस पोस्ट दिवाली क्यों मानते है के बारे में हमसे कोई सवाल पूछना है या जानकारी हासिल करनी है तो आप कमेंट करके हमसे पूछ सकते है.

Sharing Is Caring:

Leave a Comment