KGR techniques क्या है?

KGR technique क्या है

Keyword Golden ratio – “KGR technique क्या है” अगर आपको पता है तो कोई बात नहीं अगर नहीं पता.

तो मै आपको बता दू KGR techniques वह technique है

जिसकी सहायता से आप अपने पोस्ट को google मे सिर्फ 48 मे Rank कर सकते है.

Kgr Technique का Full-Form Keyword Golden Ratio है.

अगर अब आप भी google से हार मान गए है और Google मे Rank करना चाहते है.

आपको भी अच्छी खासी गूगल से आर्गेनिक ट्रैफिक अपनी वेबसाइट पर चाहिए या

अब आप भी कुछ पैसे ऑनलाइन कामना चाहते है तो इस पोस्ट को पूरा पढो

और सीखो KGR techniques का अपने ब्लॉग पर सही इस्तेमाल करना.

KGR technique क्या है इसका सही से इस्तेमाल कैसे करें

 
 

( Keyword Golden ratio ) KGR Techniques एक ऐसी technique है जिसकी सहायता से आप अपने किसी भी ब्लॉग पोस्ट को गूगल मे सिर्फ 48 घंटे के अंदर rank करवा सकते है.

ध्यान रहे आपकी सिर्फ वही ब्लॉग पोस्ट गूगल मे रैंक करेंगी।

जिसका keyword आपने Kgr Techniques की सहायता से निकाला होगा और उसपर एक SEO ऑप्टीमाइज़्ड पोस्ट लिखी होगी।

और तो और आपकी ब्लॉग पोस्ट कम से कम 600 वर्ड की तो होनी ही चाहिए.

अगर आप अपना ब्लॉग पोस्ट जितना ज्यादा वर्ड वाला

लिखेंगे उतना ज्यादा चांसेस है की आपकी ब्लॉग पोस्ट top 3 मे रैंक कर जायेगी.

खैर यह तो अब आप पर निर्भर करता है की आप अपने दिमाग़ का कितना अच्छे से इस्तेमाल करते है.

अगर आप ऊपर बताई गयी सभी पॉइंट को ध्यान मे रखकर

अपना ब्लॉग पोस्ट लिखते है तो 100% आपकी ब्लॉग पोस्ट गूगल मे रैंक करेंगी.

तो चलिए मै आपको बिना समय गवाएं आपको बता दू की KGR technique क्या है।

Kgr Technique क्या है Kgr techniques की सहायता से Long Tail Keyword कैसे ढूंढे

 
 

Kgr Technique क्या है

चाहे आप इसे KGR Techniques कहो या Long tail Keyword खोजने का तरीका दोनों लगभग बराबर है.

Kgr Technique मे आपको एक ऐसा Long tail Keyword खोजना होता है.

जिसकी सर्च वॉल्यूम 250 या इससे काम होना चाहिए.

ऐसा कीवर्ड ढूंढने के लिए अगर आप चाहो तो

ubersuggest या तो फिर गूगल Keyword planner का इस्तेमाल कर सकते है.

अगर आपको कोई ऐसा कीवर्ड मिले जिसका ट्रैफिक 300 तक हो तो भी कोई बात नहीं आप उसपर भी ब्लॉग पोस्ट लिख सकते हो.

परन्तु पोस्ट लिखने से पहले आपको उस long tail keyword का allintitle का रिजल्ट निकालना पड़ेगा.

Allintitle से मेरा कहने का मतलब यह की आपको जो भी keyword अच्छा लगा हो जिसपर आप एक

अच्छी सी पोस्ट आसानी से लिख सकते है आप उसे नोटपैड मे एक जगह लिखकर रख ले.

और फिर गूगल सर्च मे जाकर सबसे पहले आप Allintitle:YourKeyword

लिखकर सर्च करें उसके बाद आपको टोटल रिजल्ट दिखा देगा.

अगर आपको टोटल रिजल्ट 63 से कम दिखता है तो वो keywords आपके लिए बहोत फायदे वाला हो सकता है.

जैसा की मैंने ऊपर वाले इमेज मे दिखया है अगर आपको लिखा हुआ ना समझ मे

आये तो आप उस इमेज को देखकर अच्छे से समझ सकते है.

जितना कम आपके keyword का टोटल रिजल्ट होगा उतना ज्यादा रैंकिंग के चांसेस आपके बढ़ जाते है.

अगर उस keyword पर कोई video या other सोशल मीडिया साइट जैसे pintrest medium आदि Top पर

रैंक करती है तो इसका सीधा सीधा यही मतलब की उस keyword पर अभी कोई भी uniq पोस्ट नहीं लिखी गयी.

जब भी आपको कोई ऐसा keyword मिलता है तो मै आपको यही suggest करूँगा की आप उस keyword

पर जरूर पोस्ट लिखें और तो और पोस्ट की लेंथ 700-3000 तक जरूर रखे.

जब आप एक ऐसी keyword पर 700-3000 वर्ड का पोस्ट लिखते है तो और आप जब गूगल मे रैंक कर जाते हो

तो आपकी पोस्ट ना सिर्फ Main keyword बल्कि उससे संभंधित छोटे छोटे keyword पर भी रैंक करने लगते है.

जिसका ट्रैफिक आपको गूगल से अलग से आता है.

जहा तक की मुझे लगता है की अब आपको  यह तो समझ मे आ गया ही होगा की KGR technique क्या है.

और Kgr Techniques को सही से use कैसे करना है.

अगर अभी भी आपको नहीं समझ मे आया की KGR Technique क्या है तो मै आपको एक बार फिर से समझा देता हु.

Kgr Techniques ( Keyword Golden ratio ) एक ऐसी technique है जिमसे सबसे आपको एक ऐसी Long

Tail keyword लेनी होती है जिसका maximum Serch Volume 250 से ज्यादा ना हो.

जब आपको कोई ऐसा keyword मिला उसके बाद आपको उसका Allintitle रिजल्ट निकाल लेना है.

maximum टोटल रिजल्ट 63 हो उससे अधिक नहीं.

उसके बाद total allintitle मे pure serch volume से भाग दे देना है.

जब आप इस फार्मूला से भाग देंगे और भाग देने पर = 0.250 से काम आता है तो kgr techniques 100% वर्क करेगी.

जहा तक की मुझे लगता है इतना पढ़ने के बाद अब आपको

अच्छी तरह से समझ मे आ गया होगा की Kgr Technique क्या है.

Kgr Technique मे हमें किस बात का ख़ास ध्यान रखना चाहिए

 
 

  • हमेशा long tail keyword ही चुनना चाहिए.
  • Keyword की serch volume 250 या 300 से ऊपर ना हो.
  • Keyword की allintittle result 63 से अधिक ना हो.
  • Serch volume से allintitle के टोटल रिजल्ट मे भाग देने पर = 0.250 से काम आये.
  • अगर आप चाहो तो =0.300 तक पर भी काम कर सकते है पर इसपर थोड़ा ज्यादा मेहनत करना पड़ेगा.
  • अगर वही <0.250-1 आता है तो ऐसा keyword भी might Work है.
  • =<1 आये तो इसपर काम करने का कोई भी फायदा नहीं है ऐसी keyword पर काम ना करें.

>गूगल कीवर्ड प्लानर से फ्री में कीवर्ड रिसर्च कैसे करें?

क्या keyword golden ratio काम करता है?  Does keyword golden ratio work?

                             Yes

Keyword golden ratio: पूरी तरह work करता है क्योंकि मैंने इस पर खुद काम किया है.

जिसका रिजल्ट मुझे मिला भी है और मैंने keyword golden ratio की सहायता से अपने blog post को google मे रैंक भी किया है.

हां, कभी कभी ऐसा भी हो सकता है की आप की blog post ना भी रैंक करें क्योंकि अगर आपकी website बिलकुल नई होगी.

तो जाहिर सी बात है आपके post या website पर एक भी  backlink नहीं होगी.

अगर आपके post या website पर एक भी backlink नहीं है तो शायद आपके post को रैंक होने मे थोडी सी problem आ सकती है.

पर मै ऐसा नहीं बोल रहा की अगर आपके website पर एक भी backlink नहीं है तो kgr technique द्वारा निकले गए की keyword पर रैंक नहीं कर सकते.

Keyword Golden Ratio sheet

Keyword golden ratio अगर आपको बिलकुल आराम से निकालनी है तो अगर आप चाहो तो keyword golden ratio seet का use कर सकते है.

Conclusion-

उम्मीद करता हु ऊपर मैंने आपको जो भी जानकारी दी है उससे आपको यह तो पता चल गया होगा की KGR technique क्या है.

शायद अब और आपको गूगल मे KGR technique क्या है सर्च करने की जरुरत नहीं पड़ेगी.

अगर फिर भी आपको अच्छी खाशी एडवांस्ड जानकारी

आपको चाहिए तो आप Mangools.com का kgr technique क्या है वाला पोस्ट पढ़ सकते है।

9 thoughts on “KGR techniques क्या है?”

Leave a Comment